क्या हंसी धूप बिखरने लगी है,

दुल्हन सी ये सवरने लगी है।

संग धूप के मेरा यार भी सवर जाये,

मेरी रूह तक ये दुआ करने लगी है।।

Categories: Good Morning

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *