किसी के रोने से,

रत्ती भर फर्क नहीं पड़ता ज़माने को,

मुस्कुराने से दर्द कम होगा,

मगर कोई कहेगा नहीं मुस्कुराने को। 

 

 

Categories: Good Morning

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *