एक दिन जाना तो है ही, 

फिर क्यू ना मैं मेरे रकीब को प्यार दू। 

अगर हो वो गुमशुम,

मेरे होठों की हंसी उसके होठों पर उतार दू।। 

Categories: Good Night

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *